Hot
Sale

Yog Aur Yogasan by Swami Akshya Atmanand

240.00360.00

महर्षि पतंजलि ने एक सूत्र दिया है- ‘ योगश्‍च‌ित्त: वृत्ति निरोध: ‘ । इस सूत्र का अर्थ है-‘ योग वह है, जो देह और चित्त की खींच-तान के बीच, मानव को अनेक जन्मों तक भी आत्मदर्शन से वंचित रहने से बचाता है । चित्तवृत्तियों का निरोध दमन से नहीं, उसे जानकर उत्पन्न ही न होने देना है । ‘
‘ योग और योगासन ‘ पुस्तक में ‘ स्वास्थ्य ‘ की पूर्ण परिभाषा दी गई है । स्वास्थ्य की दासता से मुक्त होकर मानवमात्र को उसका ‘ स्वामी ‘ बनने के लिए राजमार्ग प्रदान किया गया है ।
‘ स्वास्थ्य ‘ क्या है? ‘ स्वस्थ ‘ किसे कहते हैं?
मृत्यु जिसे छीन ले, मृत्यु के बाद जो कुछ हमसे छूट जाए वह सब ‘ पर ‘ है, पराया है । मृत्यु भी जिसे न छीन पाए सिर्फ वही ‘ स्व ‘ है, अपना है । इस ‘ स्व ‘ में जो स्थित है वही ‘ स्वस्थ ‘ है ।
कहावत है कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ आत्मा का वास होता है । यदि शरीर ही स्वस्थ नहीं होगा तो आत्मा का स्वस्थ रहना कहाँ संभव होगा । इस पुस्‍तक को पढ़कर निश्‍चय ही मन में ‘ जीवेम शरद: शतम् ‘ की भावना जाग्रत होती है ।
प्रस्तुत पुस्तक उनके लिए अत्यधिक महत्त्वपूर्ण है जो दवाओं से तंग आ चुके हैं और स्वस्थ व सबल शरीर के साथ जीना चाहते हैं ।

SKU: 9789383111886.pdf Categories: , Tag:
Clear
View cart
Compare

Additional information

Published Year

2018

Page Count
ISBN

9789383111886.pdf

Publication Author

SWAMI AKSHAYA ATMANAND

Publisher Name

Prabhat Prakashan

Publication Language

English

Publication Mode

Online, Print

Publication Type

eBooks, Print Book (Hard Bound)

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Yog Aur Yogasan by Swami Akshya Atmanand”